देशी स्वान या गली के कुत्ते (ब्लॉग )

देशी स्वान या गली के कुत्ते (ब्लॉग )

हमारे देश में ही ऐसा होता है कि न तो लोग देशी या राष्ट्र -भाषा की कद्र करते है न ही देशी नस्ल के कुत्तों की.

हमेशा विदेशी कुत्तों या डॉगी को ही पालते है.

देशी कुत्तों को कोई नहीं चाहता सब उन्हें भगाते है.

ज़ब मैंने एक औरत से बालाघाट में बहुत मिन्नत की थी कि एक नन्हा मासूम पप्पी की माँ मरने से वो अकेले हो गये थे 4पप्पी थे पर एक बहुत ही कमजोर था कुछ खाता नहीं था वे इधर -उधर खाने को भटकते थे पर लोग उन्हें कुछ नहीं देते इतने मासूम बच्चों के सामने बासा बिगड़ा चावल डाल देते.

वो बेचारे मासूम पप्पी सुबह से खाने के लिए इधर -उधर भागते पर ह्रदयहीन लोग उन्हें कुछ नहीं देते. वो मासूम भटकते हुए मर गये. एक बड़े कुत्ते ने उनपर हमला किया जो सबसे तेज पप्पी था उसका पेट फाड़ दिया. छोटे कमजोर मासूम पप्पी को पता चल गया तो वो खाना छोड़ कर धूप में बैठ गया और मर गया. मैंने उसी के लिए एक औरत से बहुत मिन्नतें की थी कि उसे रख लो जिससे उसे जिंदगी और प्यार मिलेगा.

पर विदेशी नस्ल के कुत्तों की दीवानी वो औरत अपनी बेटी के साथ विदेशी पोमेरियान को तलाशती रही. ये पप्पी अपने भाई के मारे जाने पर खाना -पीना छोड़ कर मर गया.

वो सारे पप्पी अपनी माँ के ठंड में जकड़ के मर जाने से मारे गये उन उन्हें खाने नहीं देता था उनका शेल्टर भी टूट गया था बड़े कुत्ते उनके पीछे लगे थे और एक ने उस तेज जाँबाज को मार दिया वो दिन कितना मनहूस था.

बालाघाट में मैंने यंही सब देखा और मैंने छोड़ दिया फिर वो निष्ठुर शहर क्योंकि लोग वंहा दया नहीं करते.

यंहा भी देशी कुत्तों से लोग नफ़रत करते है.

क्रमशः

Section label

This is a headline in two lines

Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipiscing elit. Etiam non nisl in velit dignissim mollis a rhoncus dolor. Vivamus egestas condimentum erat, in iaculis nulla blandit ut.

जोगेश्वरी सधीर @कॉपी राइट 

ECOSYSTEM

Positive growth.

Nature, in the common sense, refers to essences unchanged by man; space, the air, the river, the leaf. Art is applied to the mixture of his will with the same things, as in a house, a canal, a statue, a picture.

But his operations taken together are so insignificant, a little chipping, baking, patching, and washing, that in an impression so grand as that of the world on the human mind, they do not vary the result.

The sun setting through a dense forest.
Wind turbines standing on a grassy plain, against a blue sky.
The sun shining over a ridge leading down into the shore. In the distance, a car drives down a road.

Undoubtedly we have no questions to ask which are unanswerable. We must trust the perfection of the creation so far, as to believe that whatever curiosity the order of things has awakened in our minds, the order of things can satisfy. Every man’s condition is a solution in hieroglyphic to those inquiries he would put.


Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *