मेरी रोमांटिक कविताएं मुग्धा मे है

मुग्धा (काव्य )

प्यासा मन

प्यासा मन /ज़ब भी /सागर के पास जाता है /और प्यासा /और प्यासा रह जाता है….

कॉपी राइट @jogeshwarisadhir


Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *