My hasband Namdeo ji

मेरे पति नामदेव साहू शिव भक्त 

मेरे पति नामदेव साहू

7अगस्त 23को मेरे पति की अकस्मात मृत्यु से हम जैसे अनाथ से हो गये थे अपने को संभालना और बेटे को भी परदेस में देखना था इसलिए मै रोई भी नहीं.

मै उन्हें याद करती हूँ हर पल ज़ब अकेले हो जाती हूँ उनका स्वरूप बेटा उनका उपहार है जो मेरे साथ रहकर मेरी देख -रेख मदद करता है मै पति और बेटे की ऋणी हूँ पति ने मेरे लिए इतना किया आखिरी वक़्त जो कर सकती किया.

पर उनका शरीर खत्म हो गया था खोखला हो गया था.

एक गलत आदमी की सोहबत में मैंने पति की अवहेलना की उनकी कद्र नहीं की वो भी चिड़चिड़े थे पर मेरे लिए उन्होंने सबकुछ किया.

कितने बरस अकेले रहे समाज ने उनकी कद्र भले नहीं की पर वो एक महान आत्मा थे ज़ब बारिश होती है तो मै सोचती हूँ कैसे रहते होंगे अकेले?

पर वो बड़े दिल वाले थे उन्होंने अकेले रहकर सब दुख सहा. उनकी गिनती हमेशा महान आत्माओं में होंगी.

जाने कैसे अकेले भी जीते थे अपने काम में मशरूफ रहते थे उनके कर्म और जीवनी यंही शिक्षा देते है कि वो हमेशा हमारे साथ थे वो हमारे पितृ है बेटे को सदैव सपने में दिखते है तो मै उनसे निवेदन करती हूँ कि बेटे को ठीक करने में तथा उसे सुख देने में वो अपना आशीर्वाद बरसाए उसे सपने में दिख कर डराये नहीं.

बेटे ने उस गलत गंदे आदमी का दुख सहा है जो जबरदस्ती हमारे जिंदगी में आकर हमें दुख देता था हमसे गंदे काम कराकर अपनी हवस पूरी करने हमारा इस्तेमाल करना चाहता था हमें अपने सतकार्यों से भटकाता था ऐसे दुरात्मा के चंगुल में फंस कर मै सुख देने वाले पति से दूर हो गईं जिससे अकेले होकर भी भगवान की भक्ति की राह पर चलकर उन्होंने अपना जीवन बिताया बड़े प्रेम से शांति से अपने सारे कर्तव्य निभाए. बहुत मेहनत करते थे ऐसे पति को प्रातः वंदन….

उनकी आत्मा की शांति के लिए मै अच्छे काम करती हूँ बेटे के लिए उनसे प्रार्थना करती हूँ कि बेटे को बार -बार सपने में दिखकर उसे डराये नहीं और उस बच्चे को अच्छे से जीने दो. जीते जी मेरे पति बेटे के लिए इतना करते थे उसे बहुत चाहते थे तो मरकर उसे क्यों डराते है? हमेशा बेटे के सुख और ख़ुशी उसकी दीर्घायु के लिए आशीर्वाद दीजिये और आत्म स्वरूप में पितृ रूप में मेरे बेटे की मदद कीजिये उसके जीवन को सुगम बनाएंगे.


Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *