रायल्टी

रायल्टी

माननीय अध्यक्ष! मानवाधिकार आयोग दिल्ली

विषय -मेरी 5-6किताबें प्रकाशक श्री संतोष श्रीवास्तव द्वारा कई सालों से मुझे रायल्टी दिए बिना विक्रय किया जा रहा है कृपया रोके एवं रायल्टी दिलाने की कृपा करेंगे.

माननीय अध्यक्ष!

मानवाधिकार आयोग दिल्ली

महोदय जी!

मेरी निम्नलिखित किताबें प्रकाशक श्री संतोष श्रीवास्तव द्वारा गलत तरिके से मुझे बताये बिना अग्रीमेंट एवं रायल्टी के पिछले 20वर्षों से विक्रय किया जा रहा है. उन पुस्तकों के विवरण निम्नलिखित दिए जा रहें है :-

1. जमना किनारे मोरा गांव

प्रकाशन -2009

अनीता पब्लिशिंग हाउस

2. दुपहरिया (नॉवेल )

प्रकाशन -2011

सुमित बुक सेंटर

3. द्रौपदी एक आख्यान (उपन्यास )

प्रकाशन -2013

आनीता पब्लिशिंग हाउस

4. क्रांति की लहर (नॉवेल )

प्रकाशन -2016

सुमित बुक सेंटर

प्रकाशक का मोबाइल नंबर –

09810326389,9650375089

ईमेल -santosh. shrivastav255@gmail. com

प्रकाशक का नंबर -9810326389

शिकायत कत्री

Mrs जोगेश्वरी सधीर साहू

9399896654

व्हाट्सप्प -8109978163

हरिओम नगर बालाघाट मप्र

निवेदन है कि प्रकाशक ने मुझे आज तक किसी किताब की कोई भी रायल्टी प्रदान नहीं की है मुझे कभी इनफार्म नहीं किया कि कितनी प्रतियाँ और कितने एडिशन छापे है.

मेरी किताबें लगातार हिंदी बुक सेंटर में प्रकाशक ने मेरी अनुमति या कांटेक्ट के बिना विक्रय किया है कोई कॉन्ट्रैक्ट नहीं हुआ था फिर प्रकाशन के 3वर्ष पश्चात कैसे प्रकाशक मेरी अनुमति के बिना मुझे रायल्टी दिये मेरी 6किताबें विक्रय कर रहें है.2और किताबों की जानकारी मै संलग्न करूंगी.

संलग्न है छापी गईं किताबों की पिक्चर.

थैंक्स with regards!

jogeshwari जंक्शन <jogeshwarisadhir@gmail.com>Fri, Dec 16, 2022, 1:57 PM
to kumarmt17@gmail.com
ReplyForward

माननीय अध्यक्ष! मानवाधिकार आयोग दिल्ली

विषय -मेरी 5-6किताबें प्रकाशक श्री संतोष श्रीवास्तव द्वारा कई सालों से मुझे

माननीय अध्यक्ष! मानवाधिकार आयोग दिल्ली

विषय -मेरी 5-6किताबें प्रकाशक श्री संतोष श्रीवास्तव द्वारा कई सालों से मुझे रायल्टी दिए बिना विक्रय किया जा रहा है कृपया रोके एवं रायल्टी दिलाने की कृपा करेंगे.

माननीय अध्यक्ष!

मानवाधिकार आयोग दिल्ली

महोदय जी!

मेरी निम्नलिखित किताबें प्रकाशक श्री संतोष श्रीवास्तव द्वारा गलत तरिके से मुझे बताये बिना अग्रीमेंट एवं रायल्टी के पिछले 20वर्षों से विक्रय किया जा रहा है. उन पुस्तकों के विवरण निम्नलिखित दिए जा रहें है :-

1. जमना किनारे मोरा गांव

प्रकाशन -2009

अनीता पब्लिशिंग हाउस

2. दुपहरिया (नॉवेल )

प्रकाशन -2011

सुमित बुक सेंटर

3. द्रौपदी एक आख्यान (उपन्यास )

प्रकाशन -2013

आनीता पब्लिशिंग हाउस

4. क्रांति की लहर (नॉवेल )

प्रकाशन -2016

सुमित बुक सेंटर

प्रकाशक का मोबाइल नंबर –

09810326389,9650375089

ईमेल -santosh. shrivastav255@gmail. com

प्रकाशक का नंबर -9810326389

शिकायत कत्री

Mrs जोगेश्वरी सधीर साहू

9399896654

व्हाट्सप्प -8109978163

हरिओम नगर बालाघाट मप्र

निवेदन है कि प्रकाशक ने मुझे आज तक किसी किताब की कोई भी रायल्टी प्रदान नहीं की है मुझे कभी इनफार्म नहीं किया कि कितनी प्रतियाँ और कितने एडिशन छापे है.

मेरी किताबें लगातार हिंदी बुक सेंटर में प्रकाशक ने मेरी अनुमति या कांटेक्ट के बिना विक्रय किया है कोई कॉन्ट्रैक्ट नहीं हुआ था फिर प्रकाशन के 3वर्ष पश्चात कैसे प्रकाशक मेरी अनुमति के बिना मुझे रायल्टी दिये मेरी 6किताबें विक्रय कर रहें है.2और किताबों की जानकारी मै संलग्न करूंगी.

संलग्न है छापी गईं किताबों की पिक्चर.

थैंक्स with regards!

jogeshwari जंक्शन <jogeshwarisadhir@gmail.com>Fri, Dec 16, 2022, 1:57 PM
to kumarmt17@gmail.com
ReplyForward

दिए बिना विक्रय किया जा रहा है कृपया रोके एवं रायल्टी दिलाने की कृपा करेंगे.

माननीय अध्यक्ष!

मानवाधिकार आयोग दिल्ली

महोदय जी!

मेरी निम्नलिखित किताबें प्रकाशक श्री संतोष श्रीवास्तव द्वारा गलत तरिके से मुझे बताये बिना अग्रीमेंट एवं रायल्टी के पिछले 20वर्षों से विक्रय किया जा रहा है. उन पुस्तकों के विवरण निम्नलिखित दिए जा रहें है :-

1. जमना किनारे मोरा गांव

प्रकाशन -2009

अनीता पब्लिशिंग हाउस

2. दुपहरिया (नॉवेल )

प्रकाशन -2011

सुमित बुक सेंटर

3. द्रौपदी एक आख्यान (उपन्यास )

प्रकाशन -2013

आनीता पब्लिशिंग हाउस

4. क्रांति की लहर (नॉवेल )

प्रकाशन -2016

सुमित बुक सेंटर

प्रकाशक का मोबाइल नंबर –

ईमेल -santosh. shrivastav255@gmail. com

प्रकाशक का नंबर -9810326389

शिकायत कत्री

Mrs जोगेश्वरी सधीर साहू

9399896654

व्हाट्सप्प -8109978163

हरिओम नगर बालाघाट मप्र

निवेदन है कि प्रकाशक ने मुझे आज तक किसी किताब की कोई भी रायल्टी प्रदान नहीं की है मुझे कभी इनफार्म नहीं किया कि कितनी प्रतियाँ और कितने एडिशन छापे है.

मेरी किताबें लगातार हिंदी बुक सेंटर में प्रकाशक ने मेरी अनुमति या कांटेक्ट के बिना विक्रय किया है कोई कॉन्ट्रैक्ट नहीं हुआ था फिर प्रकाशन के 3वर्ष पश्चात कैसे प्रकाशक मेरी अनुमति के बिना मुझे रायल्टी दिये मेरी 6किताबें विक्रय कर रहें है.2और किताबों की जानकारी मै संलग्न करूंगी.

संलग्न है छापी गईं किताबों की पिक्चर.

थैंक्स with regards!

jogeshwari जंक्शन Fri, Dec 16, 2022, 1:57 PM
ReplyForward

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *