सप्त -ऋषियों

सप्त -ऋषियों से…

सप्त -ऋषियों से

मेरा नाता पुराना है

बचपन में ज़ब

बुआ जी मुझे

रात को आसमान में

बुढ़िया की खाट दिखाती थी

तभी से जानती हूँ

सप्त -ऋषियों को

और मानती हूँ

अपनी सनातन संस्कृति के

संचरण को

मै भी तो उतनी ही पुरानी हूँ

जितने सप्त -ऋषि है

यंही है सनातन संस्कृति में

मेरी आस्था और विश्वास..

जोगेश्वरी सधीर कवयित्री 

मौलिक व स्वरचित कविता

@कॉपी राइट


Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *