Cyber crime

Cyber crime

श्री हर्ष श्रीवास द्वारा बेखौफ़ होकर दबंगई और सुनियोजित तरिके से प्लान कर अपनी बीबी हँसा श्रीवास के अकाउंट मे 27000/ रु मुझसे ट्रांसफर करवा कर रंगदारी की तरह धमकी देकर सुमित नामक दलाल के साथ मुझे धमकाना और मेरे भाई श्री कोमल दियावार ti तामिया थाना मप्र को अभद्रता से धमकी देकर पुलिस अधिकारी से गलत तरिके से मेरे प्रति फटकारने की अभद्र भाषा बोल खुल कर धमकाना. ताकि मै डर कर अपने दिए पैसे नहीं मांगू और मेरे भाई कोमल को डराना कि मुझे कुछ भी हो सकता है. Cyber crime हर्ष श्रीवास पर दर्ज कर उसकी जाँच कर मेरे 27000/ रु वापस दिलाने की कृपा करने का कष्ट करें. 

माननीय महोदय गण, 

सादर विनती है कि श्री हर्ष श्रीवास ने दो महीने से मुझे बातचीत कर व्हाट्सप्प द्वारा विजय नैन और गौरव कास्टिंग वाले के साथ विश्वास दिलाया कि वो मेरी लिखी वेब -सीरीज मिशन मुंबई, पर शूटिंग करेगा और मुझे 7/11/19 को मुंबई बुलाया. और विजय व गौरव से बात नहीं करने कहा और मुझे कहा कि उसने व उसके दलाल सुमित ने मेरे लिए गोरेगांव मे रूम लिए है जिसके 3 माह का किराया 27000/ रु मै तुरंत उसकी बीबी हँसा श्रीवास के अकाउंट no.

Sbi के मऊ ब्रांच मे जमा करा दू. मुझे उसने 7/11/19 को ही कई बार फोन किया मोबाइल no. से और अपनी बीबी हँसा श्रीवास का अकाउंट no. भेज कहा कि जल्दी से 27000/ रु जमा कर दूँ और कहा कि वो सीरीज  मिशन मुंबई का मुहूर्त 25/11/19 को किसी होटल मे कर रहा है और मै अपने गेस्ट के नाम भी भेजू तो मैंने अपने भाई अभय पाण्डेय जी का नाम भेजी जो राकांपा के हिंदी भाषी के अध्यक्ष है, no. है इनका नाम मैंने उसे सर्टिफिकेट के साथ दी. हर्ष ने कहा कि वो इनविटेशन छपवा रहा है. 

27000/ रु तुरंत ही उसकी बीबी हँसा श्रीवास के अकाउंट sbi मे जमा करा दूँ. 

मेरे बेटे पराक्रम साहू के sbi अकाउंट no. से 8/11/19 को ही सुबह हमने एकसाथ 27000/ रु उसकी बीबी हँसा के अकाउंट मे दे दिए और हम उसके इनविटेशन और रूम दिलाने की प्रतीक्षा करते रहे. 

पर उसने फोन करना बंद कर दिया और 25/11/19 को कोई मुहूर्त भी नहीं हुआ न उसने कोई मीटिंग किया. और बहाना करता रहा कि हैदराबाद के रामोजी सिटी स्टूडियो मे उसकी सीरीज की शूटिंग चल रही है ऐसा बहाना बना वो मीटिंग टालते रहा. 

हमने रूम बाबत पूछा तो उसने सुमित नामक उसके दलाल का मोबाइल no. नंबर पर बात करने कह कर टालमटोल करने लगा. 

ज़ब सुमित को नंबर पर कॉल करते तो वो धमकी देने लगा. ज़ब हर्ष के व्हाट्सप्प 9880010261 पर मैसेज करते तो वो मेरे माने हुए भाई अभय पाण्डेय जी को शिकायत करता कि ये हमको मैसेज करती है और विजय द्वारा कॉल करवाता कि मै कॉल या पुलिस कम्प्लेन नहीं करूँ. 

विजय ने मुझे व्हाट्सप्प से मैसेज व कॉल कर बार बार कहा कि मै पुलिस कम्प्लेन नहीं करूँ. 

इस तरह मेरे भाई अभय पाण्डेय व विजय नैन से कहकर उसने मुझे पुलिस कम्प्लेन करने से रोका और मेरे कॉल करने पर मुझे डराता -धमकाता व डांट -फटकार कर रंगदारी बताता. 

मैंने अपने भाई श्री कोमल दियावार ti थाना तामिया मप्र से कही तो उनके फोन करने पर मेरे बारे मे अपशब्द व मनगढ़ंत बातें कहकर उन्हें धमकाया कि मै परदेस मे हूँ तो मुझे कुछ भी कर सकता है. सुनकर मेरे थाना प्रभारी भाई डर गए कि सच मे वो अपने दबँग साथी सुमित के द्वारा अटैक या कोई अप्रिय हादसा ना कर दे. 

मेरे कॉल करने पर हर्ष मुझे धमकी देकर दुर्व्यवहार कर बोला -कि -तेरे सिर पर गन रखा था क्या जो तूने पैसे जमा कराई. 

और भी बुरा बर्ताव कर अनर्गल वैसे ही भड़काने वाली बातें बोला. जैसे तेरे को बड़ा लिखते आता है. तू तो अब जिंदगी भर ऐसे ही परेशान रहेगी. आदि 

फिर डरकर मै पुलिस थाने वनराई गोरेगांव E गई. शिकायत दर्ज कराई. श्री लोखंडे साहब और राकांपा हिंदी भाषी अध्यक्ष अभय पाण्डेय जी ने मुझे उसे फ़ोन न करने की सलाह दिए. 

तब से मै बहुत चिंतित हूँ. मेरी आर्थिक स्थिति डांवाडोल है. बेटा भी बीमार हो गया इस सदमे से. मुझे दूसरे रूम का डिपाजिट -भाड़ा भरने मे जमापूंजी चली गई और मेरे को भाई अभय पाण्डेय के यंहा से ही खाना मिल रहा है. 

सबसे बढ़कर इस जालसाजी का मेरे दिमाग़ पर गलत असर पड़ गया है. हर्ष श्रीवास और उसके गुर्गे सुमित के धमकाने व क्रूर बर्ताव से मै डरी हुई हूँ. 

मै गांव नहीं जा पा रही वरना मेरे 27000/ रु हर्ष श्रीवास ने खा जाने की प्लानिंग करके ही ये सारा ड्रामा झूठ बोलकर किया है. 

उसकी बीबी हँसा श्रीवास का अकाउंट sbi मऊ इंदौर मप्र का है जंहा से लोखंडे जी si साहब ने उसके पते पर बुलाने रजिस्ट्री की है. 

हर्ष श्रीवास के की डिटेल निकाल उसके मुंबई पता जानकारी मंगवाए है. 

हर्ष श्रीवास ने किसी राज प्रोडक्शन की बात कहा था और रामोजी फिल्मसिटी हैदराबाद मे वेब -सीरीज की शूटिंग की बात कहा था. वो बांद्रा मे रहता है ऐसा बताया था. मुंबई के डायरेक्टर की संस्था से भी उसका पता मिल सकता है. 

सुमित नामक उसके गुर्गे व दलाल का मोबाइल no. है. ये कह रहा था कि 25/12/19 को उसका कोई चेक क्लियर होगा पर ये उसने हमें बरगलाने को बार बार झूठ बोलकर मेरे भाई कोमल दियावार मोबाइल no. पर तरह तरह के मेरे बारे मे अपशब्द कहकर मेरे पुलिस अधिकारी भाई को डरा दिया कि यंहा परदेस मे मै अकेली हूँ तो मुझे भी कुछ भी कर सकता है. 

इसके अलावा विजय नैन मोबाइल और गौरव मोबाइल no. भी मुझे उसके बारे मे कोई जानकारी नहीं दे पाए. जबकि इन दोनों के कहने पर ही मैंने हर्ष श्रीवास से मोबाइल व्हाट्सप्प पर कांटेक्ट की. और इन दोनों ने ही बताये थे कि वो बड़ा डायरेक्टर है तो उनकी बातों पर विश्वास कर मैंने उसकी बीबी के अकाउंट मे 27000/ रु एक बार मे ही बिना किसी से सलाह -मश्वरा किये जमा कराये. 

अब मै अपनी गलती पर रो रही हूँ. मुझपर इस जालसाजी और हर्ष और सुमित की धमकी से बहुत बुरा असर पड़ा है. मै उसके बाद से डिप्रेशन मे हूँ. बेटा भी सदमे से बीमार है. 

हर्ष ही इस cyber crime का master माइंड है उसने हमारे भोलेपन और सीधेपन को जानकर दबाव बनाकर हमसे 27000/ रु ट्रांसफर करवा लिए. ये मेरे लिए बड़ी रकम है उससे भी बड़ा ये सदमा है. 

मै आप सभी से सहायता की विनती कर हर्ष श्रीवास द्वारा वेब -सीरीज के नाम पर डायरेक्टर बनकर की जा रही जालसाजी व ठगी के गिरोह का भंडाफोड़ करके मुझे मेरी रकम वापस दिलाने की कृपा करें. मेरी रकम वो सवा दो माह से लेकर नहीं लौटा रहा है. डराता -धमकाता भी है फोन करके जिसे डरकर रिकॉर्ड नहीं कर पाई हूँ पर कुछ रिकॉर्ड है. 

मेरी दयनीय स्थिति पर तरस खाकर अविलम्ब कार्यवाही कर हर्ष श्रीवास, हँसा श्रीवास और सुमित के साइबर क्राइम करने वाले गिरोह को पकड़ा जाये ताकि इन तीनों की धूर्त साजिश का शिकार कोई और भोलेभाले लोग न हो पाए. 

ध्यान देने योग्य पॉइंट्स है कि हर्ष श्रीवास वेब -सीरीज का डायरेक्टर बनकर रियल एस्टेट दिलाने की ठगी कर रहा है. मेरे शक मे विजय नैन भी है जिसने मुझे पुलिस मे नहीं जाने को कई बार मैसेज किया है. 

ये बहुत बड़ा गिरोह है. और फ़िल्म मे काम दिलाने के नाम पर जालसाजी कर पैसे की बड़ी रकम ऐंठ रहे है. कार्यवाही कर मेरी रकम वापस दिलाने की विनती सहित अर्जी पेश है. 

Mrs जोगेश्वरी सधीर साहू लेखिका 

मेरा व्हाट्सप्प मोबाइल -8109978163


Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *