sabhar Google

Fraud in production office

कल स्वीटी ने कॉल कर मुझे कहा कि तुमने हमें स्क्रिप्ट क्यों दी? Etc!

तो महोदय!वो स्क्रिप्ट मै सिर्फ दिखाना चाहती थी

देने के लिए नहीं कराशानू को दी थी

ज़ब उन्होंने मुझसे स्क्रिप्ट ली तो मै समझी कि वो मुझसे स्क्रिप्ट लेकर आपको दिखा कर वापस उसी वक़्त दे देंगे या आप बुलाकर मुझे one लाइन के लिए बोलेंगे. यंही सोचकर मैंने स्क्रिप्ट उसके हाथ में दी तब उसने कहा -नॉवेल भी दे दो.

ज़ब वह ऊपर फ्लोर पर गया तो मै इंतज़ार करते रही कि वो मेरी स्क्रिप्ट लौटायेंगे या मुझे बुलाएंगे.

लेकिन ज़ब देर हो गईं तो स्वीटी से मैंने कहा कि मै अब रूम पर जा रही हूँ कल आउंगी.

स्वीटी ने कहा कि नंबर दे दो तुम्हें कॉल करके बुलाएंगे.

फिर मै कई बार गईं तो उसने यंही कहा कि सर तुम्हें बुलाएंगे.

लेकिन ऐसा नहीं हुआ तो मैंने उससे कही कि मेरी स्क्रिप्ट लौटा दो. तो उसने दो राइटर से मिलाई.

उन्होंने कहा कि स्क्रिप्ट सर के पास है वो ही सच बताएंगे.

फिर मै गईं तो उसने कही कि स्क्रिप्ट हम भेज देंगे पता दे दो etc.

मुझे गांव लौटना पड़ा मैंने ज़ब भी फोन की उसने फोन नहीं उठाया मजबूर होकर मुझे ईमेल करना पड़ा.

उसने कहा -सर!अच्छे है इसलिए नॉवेल का प्राइज दे रहें.250/जो है but

वो स्क्रिप्ट राइटर ने नहीं पता किसे दे दी? याद नहीं ज़ब आएगी तब देंगे..

उसने ये भी कहा कि तुमने स्क्रिप्ट क्यों दी?

तो मैंने ये सोचकर नहीं दी थी कि स्क्रिप्ट रख लेंगे.

यंही समझी थी कि वो तुरंत देख कर वापस करेंगे मुझे नहीं पता वो स्क्रिप्ट आपके राइटर ने क्यों और कैसे किसीको को दे दी और उसे क्यों याद नहीं है.

ज़ब मैंने कही कि स्क्रिप्ट मेरी प्रॉपर्टी है तो वो बोली -क्यों दी?

तो महोदय मै यंही सोचकर बैठी थी कि बुलाएंगे या लौटा देंगे ऐसे मुफ्त में स्क्रिप्ट रख लेंगे और घुमा देंगे ये मुझे नहीं मालूम था कि स्क्रिप्ट जैसी बेशकीमती intelectual प्रॉपर्टी आपके ऑफिस में लेकर आपके राइटर घुमा देते है. उन्होंने क्यों ली थी मुझसे स्क्रिप्ट? कई बार गईं तो क्यों नहीं लौटाई और स्वीटी क्या एक लेखिका को बेगार करने वाली समझती है कि मै सब काम छोड़कर गईं तो भी स्क्रिप्ट नहीं लौटाई.

आपके यंहा एक राइटर की इतनी ही इज्जत होती है?

मै गांव से आई थी कई बार आई आपने मिलना जरूरी नहीं समझे और आपके राइटर को ये याद नहीं कि इतनी बड़ी स्क्रिप्ट कंहा रख दिये किसे दे दिये? तो ऐसे लोग क्या लिखते होंगे समझ में आता है?

और ये भी पता चला कि आपका स्टॉफ एक वरिष्ठ लेखिका से कितना गलत बर्ताव कर सकता है स्क्रिप्ट लेकर रख लिए और रोज नए बहाने बनाना.

मुझे लगता उन लोगों ने स्क्रिप्ट ली और आपको नहीं दिखाए है बार -बार कहती रही वो कि वापस कर देंगे अब गुम होने की बात कर रहें.

कितनी लापरवाही आप लोग एक स्क्रिप्ट के बारे में बरतते है कि लेखक को हर तरह से अपमानित किया जाता है फटकारा जाता है कि वो डर जाये.

एक लेखक की प्रॉपर्टी होती है स्क्रिप्ट करसानू ने लिया तो आकर क्यों नहीं बताया कि हम उसे यूँ ही फ्री में रख रहें है?

मै तो wait कर रही थी कि स्क्रिप्ट वापस लाकर देंगे वर्ना मै क्यों देती मालूम होता कि ऐसे ही रख लेंगे मुफ्त में स्क्रिप्ट और नॉवेल दोनों.

और आज फ़िल्म इंडस्ट्री का जो बुरा हाल है इसलिए है कि एक बारबर, धोबी, मोची, कारपेंटर और डेकोरेटर के काम की कीमत है किन्तु राइटर को कितना अपमान करके जलील किया जाता है कितना फालतू समझा जाता है आज समझ आया और यंही कारण है कि आज 100-200करोड़ की मूवी चल नहीं रही और vfx से मूवी चलेगी भी नहीं क्योंकि आपके पास जो स्टॉफ है एक राइटर ही उसके लिए सबसे फालतू और हँसी का पात्र है.

फ़िल्में चलेगी भी नहीं आप लोग सिर्फ ऑफिस सजाते रहिये स्क्रिप्ट गुमाते रहिये.

पोस्ट बॉक्स नंबर -13

हरिओम नगर, गायखुरी रोड

बालाघाट मप्र 481001

9399896654

स्वीटी से कहना मुझे कॉल नहीं करें वर्ना मुझे बुरा लगता है और कोई मुझसे टेड़ी बातें कर मुझे दोषी ठहराता है तो मै फिर ईमेल cp को भी कर सकती इसलिए वो ज्यादा कॉल मुझे नहीं करेंगी क्योंकि मैंने स्क्रिप्ट इसलिए दी थी कि करसानू उपर दिखा कर वापस लाएगा इसलिए नहीं कि मुझे चक्कर लगाना पड़ेगा और बहाने सुनने होंगे.

Good नाईट 🙏

Thu, Nov 10, 2022, 2:40 PM
to imppa1937

कल स्वीटी ने कॉल कर मुझे कहा कि तुमने हमें स्क्रिप्ट क्यों दी? Etc!

तो महोदय!वो स्क्रिप्ट मै सिर्फ दिखाना चाहती थी

देने के लिए नहीं कराशानू को दी थी

ज़ब उन्होंने मुझसे स्क्रिप्ट ली तो मै समझी कि वो मुझसे स्क्रिप्ट लेकर आपको दिखा कर वापस उसी वक़्त दे देंगे या आप बुलाकर मुझे one लाइन के लिए बोलेंगे. यंही सोचकर मैंने स्क्रिप्ट उसके हाथ में दी तब उसने कहा -नॉवेल भी दे दो.

ज़ब वह ऊपर फ्लोर पर गया तो मै इंतज़ार करते रही कि वो मेरी स्क्रिप्ट लौटायेंगे या मुझे बुलाएंगे.

लेकिन ज़ब देर हो गईं तो स्वीटी से मैंने कहा कि मै अब रूम पर जा रही हूँ कल आउंगी.

स्वीटी ने कहा कि नंबर दे दो तुम्हें कॉल करके बुलाएंगे.

फिर मै कई बार गईं तो उसने यंही कहा कि सर तुम्हें बुलाएंगे.

लेकिन ऐसा नहीं हुआ तो मैंने उससे कही कि मेरी स्क्रिप्ट लौटा दो. तो उसने दो राइटर से मिलाई.

उन्होंने कहा कि स्क्रिप्ट सर के पास है वो ही सच बताएंगे.

फिर मै गईं तो उसने कही कि स्क्रिप्ट हम भेज देंगे पता दे दो etc.

मुझे गांव लौटना पड़ा मैंने ज़ब भी फोन की उसने फोन नहीं उठाया मजबूर होकर मुझे ईमेल करना पड़ा.

उसने कहा -सर!अच्छे है इसलिए नॉवेल का प्राइज दे रहें.250/जो है but

वो स्क्रिप्ट राइटर ने नहीं पता किसे दे दी? याद नहीं ज़ब आएगी तब देंगे..

उसने ये भी कहा कि तुमने स्क्रिप्ट क्यों दी?

तो मैंने ये सोचकर नहीं दी थी कि स्क्रिप्ट रख लेंगे.

यंही समझी थी कि वो तुरंत देख कर वापस करेंगे मुझे नहीं पता वो स्क्रिप्ट आपके राइटर ने क्यों और कैसे किसीको को दे दी और उसे क्यों याद नहीं है.

ज़ब मैंने कही कि स्क्रिप्ट मेरी प्रॉपर्टी है तो वो बोली -क्यों दी?

तो महोदय मै यंही सोचकर बैठी थी कि बुलाएंगे या लौटा देंगे ऐसे मुफ्त में स्क्रिप्ट रख लेंगे और घुमा देंगे ये मुझे नहीं मालूम था कि स्क्रिप्ट जैसी बेशकीमती intelectual प्रॉपर्टी आपके ऑफिस में लेकर आपके राइटर घुमा देते है. उन्होंने क्यों ली थी मुझसे स्क्रिप्ट? कई बार गईं तो क्यों नहीं लौटाई और स्वीटी क्या एक लेखिका को बेगार करने वाली समझती है कि मै सब काम छोड़कर गईं तो भी स्क्रिप्ट नहीं लौटाई.

आपके यंहा एक राइटर की इतनी ही इज्जत होती है?

मै गांव से आई थी कई बार आई आपने मिलना जरूरी नहीं समझे और आपके राइटर को ये याद नहीं कि इतनी बड़ी स्क्रिप्ट कंहा रख दिये किसे दे दिये? तो ऐसे लोग क्या लिखते होंगे समझ में आता है?

और ये भी पता चला कि आपका स्टॉफ एक वरिष्ठ लेखिका से कितना गलत बर्ताव कर सकता है स्क्रिप्ट लेकर रख लिए और रोज नए बहाने बनाना.

मुझे लगता उन लोगों ने स्क्रिप्ट ली और आपको नहीं दिखाए है बार -बार कहती रही वो कि वापस कर देंगे अब गुम होने की बात कर रहें.

कितनी लापरवाही आप लोग एक स्क्रिप्ट के बारे में बरतते है कि लेखक को हर तरह से अपमानित किया जाता है फटकारा जाता है कि वो डर जाये.

एक लेखक की प्रॉपर्टी होती है स्क्रिप्ट करसानू ने लिया तो आकर क्यों नहीं बताया कि हम उसे यूँ ही फ्री में रख रहें है?

मै तो wait कर रही थी कि स्क्रिप्ट वापस लाकर देंगे वर्ना मै क्यों देती मालूम होता कि ऐसे ही रख लेंगे मुफ्त में स्क्रिप्ट और नॉवेल दोनों.

और आज फ़िल्म इंडस्ट्री का जो बुरा हाल है इसलिए है कि एक बारबर, धोबी, मोची, कारपेंटर और डेकोरेटर के काम की कीमत है किन्तु राइटर को कितना अपमान करके जलील किया जाता है कितना फालतू समझा जाता है आज समझ आया और यंही कारण है कि आज 100-200करोड़ की मूवी चल नहीं रही और vfx से मूवी चलेगी भी नहीं क्योंकि आपके पास जो स्टॉफ है एक राइटर ही उसके लिए सबसे फालतू और हँसी का पात्र है.

फ़िल्में चलेगी भी नहीं आप लोग सिर्फ ऑफिस सजाते रहिये स्क्रिप्ट गुमाते रहिये.

मेरी स्क्रिप्ट आपके राइटर को ज़ब मिलेगी तो मेरे पते पर भेज दीजिये.

और मुझे नॉवेल का प्राइज नहीं होना.

मेरी तरफ से गिफ्ट समझ लीजिये.

धन्यवाद

जोगेश्वरी सधीर

9399896654

स्वीटी से कहना मुझे कॉल नहीं करें वर्ना मुझे बुरा लगता है और कोई मुझसे टेड़ी बातें कर मुझे दोषी ठहराता है तो मै फिर ईमेल cp को भी कर सकती इसलिए वो ज्यादा कॉल मुझे नहीं करेंगी क्योंकि मैंने स्क्रिप्ट इसलिए दी थी कि करसानू उपर दिखा कर वापस लाएगा इसलिए नहीं कि मुझे चक्कर लगाना पड़ेगा और बहाने सुनने होंगे.

jogeshwarisadhir@gmail.com>
 imppa1937

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *